What is web Hosting-
Domain Buy करने के बाद ये डोमेन एक वेबसाईट से रजिस्टर करने के बाद जो विजिटर आपकी Website पर कन्टेन्ट को देखता है इस कन्टेन्ट की फाईल  को जो सर्वर सेव करता है ये सर्वर डाटा या फाईल को सेव करने के लिये हमसे कुछ पैसे लेते है। चूकिं सर्वर को बनाने के लिये बड़ी मात्रा में पैसे लगते है तो इसके लिये हम अपनी Website का डाटा अथवा फाईल किसी ऐसे व्यक्ति या कम्पनी से सर्वर कुछ पैसे देकर लेना होता है । इस प्रकिया को Website Hosting कहते है।
इस प्रकिया को आसान बनाने के लिये कुछ Website होती है जो हमसे कुछ रुपये लेकर हमे Web Hosting की सुविधा प्रदान कराते है। ये हमें एक सुविधाजनक सर्वर प्रदान कराते है जिसपे हम अपना डाटा या इमेज फाईल वगैरा डाल सकते है । जो कि युजर को दिखाई देता है।
Web Hosting दो प्रकार की होती है -
  1. विन्डो सर्वर
  2. लिनिक्स सर्वर
  3. यदि आप अपनी Website .Net  पर बना रहे है या ASP पर बना रहे है तो आपको विन्डोज सर्वर को हायर करना चाहिये। लेकिन ये सर्वर ज्यादातर कोस्टली होता है। क्योकि इसमें लाईसेन्स लेना पड़ता है ।
जबकि लिनिक्स की  कम होती है ये कुछ ही रुपये में आपको उपलब्ध हो जाता है। ये सर्वर ओपन सोर्स होता है।
ये सर्वर वैसे तो आपके विजिटर पर भी डिपेन्ड होता है इसके हिसाब से आप Web Hosting पर कर सकते है-
दूसरे शब्दो में Website Hosting के तीन लेवल होते है-
पहले लेवल की Web Hosting को Shared Hosting कहते है इसमें यदि आपके विजिटर आपकी वेबसाईट पर कम आते है तो ये पैकेज Best रहता है।
दूसरे लेवल पर होती है Virtual Private Servers {VPS} ये आपके औसत विजिटर के लिये होता है।
तीसरे ओर अन्तिम लेवल पर Dedicated Servers होते है इसमें आपके विजिटर की मात्रा कितनी भी हो ये सर्वर सब मैनेज करता है। यह सर्वर केवल आपके लिये होता है। इस सर्वर पर पूर्ण रूप से आपका अधिकार होता है।
अधिक विजिटर आने पर क्या करे-
एक अऩुमान लगाया जाये तो यदि आपकी साईट पर लगभग 2000 से 3000 विजिटर रियल टाईम पर आते है तो आपको  दूसरे लेवल Virtual Private Servers (VPS)  लेना पड़ेगा। यदि आप एसा नही करते है तो आपको आपकी साईट पर सर्वर डाउन व अन्य समस्याओ का सामना करना पड़ सकता है। यदि इनसे कम विजिटर आपकी साईट पर आते है जो आपको Shared Hostings लेने में ही फायदा है।
How to take Web Hosting-
दोस्तो यदि आप Website Hosting गुगल पर सर्च करोगे तो आपको बहुत सी वेबसाईट दिखायी देगी जैसे- Godaddy , Bigrock , Hosting Raja etc.
दोस्तो आपको बताना चाहूंगा की Godaddy , Bigrock  भारत की वेबसाईट होस्टींग प्रोवाईडर कम्पनी है।
इनकी पेमेन्ट यदि आप करना चाहे तो आप इनकी पेमेन्ट डेबिट कार्ड , क्रेडिट कार्ड , आनलाईन नेट बैकिंग से कर सकते है। ये सुविधा इन दोनो Godaddy , Bigrock  साईट पर उपलब्ध है।
इसके अलावा यदि आपके पास Pay Pal अकाउन्ट हे तो Namecheep से वेब होस्टींग प्लान ले सकते है ये सबसे सस्ती Web Hosting उपलब्ध कराता है.
यदि आपको VPS लेना है यो Cloude Hosting लेने है तो Digital Occean इसके लिये बेस्ट है। इसमें आप अलग अलग लोकेशन पर सर्वर बना सकते है। लेकिन ये इन्डिय़न पेमेन्ट  गेटवे सपोर्ट नही करती है अगर आपके पास Pay Pal हो तो आप यहा से ये सर्विस ले सकते है।
जबकी बहुत सारी Website आपको Free Hosting भी प्रदान करती है लेकिन इनमें ये समस्या मुख्य रुप से हे कि जब आपकी साईट पर ट्रैफिक ज्यादा आयेगे तो आपकी सर्विस बन्द हो जाती है। या यु कह लीजिये कि ये Hosting केवल टेस्ट करने के लिये होती है ज्यादा ट्रैफिक होने पर ये Hosting बन्द हो जाती है। सबसे अच्छा तरीका यही है कि आप Paid Hosting ले लिजिये वर्ना रातो रात यदि आपकी फ्री होस्टीगं साईट पर कुछ होता है तो आपकी साईट की सारी फाईल खत्म हो जायेगी।
लेकिन यदि आपक केवल प्रेक्टिस के लिये इस Web Hosting को लेना चाहे तो ले सकते है।
How to Buy Web Hosting-
Go Daddy पर वेब Hosting का Option आता है उस पर आप क्लीक करेगे यहा पर आपको बताते कि आपको कौन से लेवल की Hosting चाहिये। इसी प्रकार बिग रोक पर भी यही पुछा जाता है। यह पर आपको विन्डोज या लिनिक्स के हिसाब सो जो भी आपको Web Hosting Plane अच्छा लगा खरीद सकते है।
इन साईट पर आपको बतााय जाता है कि Web Hosting के प्लान की अमाउन्ट कितनी है इस अमाउन्ट के हिसाब से आप Web Hosting खरीद सकते है।

Post a Comment

Previous Post Next Post